१५००० के रिफंड के लिए भेजना होगा ओरिजिनल सर्टिफिकेट

सेबी की एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने मंगलवार को पीएसीएल के निवेशकों से कहा कि वे पैनल से एसएमएस प्राप्त करने के बाद ही 30 जून तक अपना मूल यानी ओरिजिनल पंजीकरण प्रमाण पत्र जमा करें।

यह केवल उन निवेशकों के लिए लागू होता है जिनके रिफंड का पैसा 10,001 रुपये से 15,000 रुपये के बीच है और जिनके आवेदनों को वेरीफाई किया गया है।

“मूल प्रमाण पत्र 1 अप्रैल, 2022 से 30 जून, 2022 तक स्वीकार किये जायेंगे ,” (सेबी) ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा।

पैनल निवेशकों की वेरीफाई करने के बाद उन्हें रिफंड करने के लिए पीएसीएल की प्रॉपर्टीज की नीलामी की प्रक्रिया की देखरेख कर रहा है। इसने पहले से भी रिफंड की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

पीएसीएल, जिसे पर्ल ग्रुप के रूप में भी जाना जाता है, जिसने कृषि और अचल संपत्ति व्यवसायों के नाम पर जनता से धन जुटाया था, सेबी द्वारा पाया गया था कि उसने 18 वर्षों की अवधि में अवैध सामूहिक निवेश योजनाओं (सीआईएस) के माध्यम से 60,000 करोड़ रुपये से अधिक एकत्र किए हैं।

प्रेस विज्ञप्ति में, लोढ़ा समिति ने कहा कि उसने “10,001 रुपये से 15,000 रुपये के बीच के दावों के साथ पात्र निवेशकों से मूल पीएसीएल पंजीकरण प्रमाण पत्र मांगने का फैसला किया है, जिनके आवेदनों को सफलतापूर्वक वेरीफाई किया गया है”।

इसके लिए निवेशकों को एक एसएमएस भेजा जाएगा जिसमें उन्हें मूल पंजीकरण प्रमाण पत्र (ओरिजिनल सर्टिफिकेट )जमा करने के लिए कहा जाएगा।

उन्हें ये सर्टिफिकेट पंजीकृत या स्पीड पोस्ट द्वारा मुंबई में सेबी के मुख्यालय में में भेजना होगा।

दिसंबर 2015 में, सेबी ने पीएसीएल और इसके नौ डायरेक्टर्स और निदेशकों की सभी संपत्तियों को कुर्क करने का आदेश दिया था, क्योंकि वे निवेशकों को बकाया धन वापस करने में विफल रहे थे।

सेबी ने पीएसीएल के साथ-साथ उसके डायरेक्टर्स और निदेशकों से अगस्त 2014 में पारित एक आदेश में धन वापस करने के लिए कहा था। साथ ही बकायेदारों को आदेश की तारीख से तीन महीने के भीतर योजनाओं को बंद करने और निवेशकों को पैसा लौटाने का निर्देश दिया गया था।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.